may14

सोमवार, 7 अक्तूबर 2013

we are responsible




                                  हम पर निर्भर है



एक गाँव में एक सन्त रहा करते थे ! वो अपने पास आने वाले भक्तों ,व्यक्तियों के सवालों का सही जवाव दिया करते थे ! लोगों की उन पर बड़ी श्रद्धा थी ! गाँव के एक शरारती लड़के ने सोचा कि में इन महात्मा जी को गलत साबित कर के रहूँगा ! वो अपने हाथ की हथेली में एक छोटी सी चिड़िया छुपा कर ले गया ! अपने हाथ अपनी पीठ के पीछे कर उसने महात्मा जी से पूछा ---महाराज ,मेरे हाथ में क्या है ?   एक चिड़िया है ,महात्मा जी ने कहा 
वो चिड़िया जिन्दा है या मरी हुई ,लड़के ने पूछा ! वो ये सोच के गया था कि अगर महात्मा जी जिन्दा बताएँगे तो में पीठ के पीछे ही उस चिड़िया की गर्दन मरोड़ कर मार दूंगा , और अगर मरी हुई बताएँगे तो उसे जिन्दा आजाद कर दूंगा ! इस तरह उन महाराज को में गलत साबित कर दूंगा ! 
बताइये महाराज चिड़िया जिन्दा है या मरी है ? 
महात्मा जी मुस्कुराए ,बोले --ये तुम पर निर्भर है !

दोस्तों ,हम भी अपनी जिंदगी में जो बनना चाहते हैं ,पाना चाहते हैं ,करना चाहते हैं ,ये सब बहुत कुछ हम पर ही निर्भर है ! हम एक सफल इंसान बनेंगे या ऐसे ही जिंदगी बिता देंगे ,हम पर निर्भर है ! सब कुछ नहीं पर बहुत कुछ तो हम पर ही निर्भर है !

सुबह जल्दी उठने के लिए आप अलार्म लगाते हैं ,माँ bed-tea बनाकर ला देती हैं ! बहिन बार बार आवाज लगा कर उठाती  है ! छोटा भाई आपके मुंह पर पानी के छींटे डालता है ! कोशिश सब करते हैं आप को सुबह जल्दी उठाने की ,लेकिन जल्दी  उठना   या  नहीं उठना , finally तो आप पर ही निर्भर है ,है ना ?

मातापिता हमारे अच्छे भविष्य के लिए हमें अच्छी शिक्षा दिलाते हैं ,जरुरत की हर चीज ला कर देते हैं ! हमें motivate करते हैं ! दूसरे शहर में पढने भेजते हैं ! तपस्या करते हैं ! उनकी इस तपस्या को सफल करना या नहीं करना फिर हम पर ही निर्भर है !

मैं ये नहीं कहता की हर चीज 100 % हम पर ही निर्भर है ,कभी कभी कुछ परिस्थितियां होती हैं ,मजबूरियां होती हैं कि हम चाह कर भी कुछ  मन माफिक नहीं कर पाते ! 

हम लोगों में से अधिकतर मोटे नहीं होना चाहते ,छरहरे रहना चाहते हैं ! हम जीभ के 2 सेकंड के स्वाद के लिए ,बार बार ,unhealthy ,तला भुना ,junkfood /fastfood  खाएँगे ,या अपनी सेहत और स्वास्थ्य के लिए नियम संयम से खाएँगे ! ये भी हम पर ही निर्भर हैं !

एक गहरी नदी में कूदने पर हम हताश होकर डूब जाएंगे या लहरों से जूझ कर ,साहस के साथ तैर कर पार निकल जाएंगे ,हम पर ही निर्भर है !

last में…
इस post को पढ़कर आप अपने अमूल्य comments देंगे या नहीं ,ये भी आप पर ही निर्भर है 

डॉ नीरज 

               ---------------------------------------------------------------------------------------

4 टिप्‍पणियां:

  1. सादर प्रणाम |
    बहुत मोटिवेशनल |
    हम जो भी बनेंगे हमारी वर्तमान सोंच से निर्धारित होंगा |
    अतीत यहाँ तक ले आया हैं तो भविष्य वहाँ तक ले जायेंगा ,जहा के सपने हम आज देख रहे हैं |
    डॉ साहेब ,बहुत ही प्रेरक पप्रस्तुति |आभार आपका |
    डॉ अजय |

    उत्तर देंहटाएं
  2. फेसबुक पर तो शेयर कर देते सर जी पोस्ट तो मैने पढ़ ली हैं. अच्छी है पर please आगे से शेयर जरूर करें.

    उत्तर देंहटाएं

दोस्त, आपके अमूल्य comment के लिए आपका शुक्रिया ,आपकी राय मेरे लिए मायने रखती है !