may14

सोमवार, 10 सितंबर 2012

Lokmanya Bal Gangadhar Tilak Quotes in hindi






स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है और मैं इसे लेकर रहूँगा ' इस नारे को देने वाले बाल  गंगाधर तिलक का जन्म 23 जुलाई ,1856 को महाराष्ट्र के रत्नागिरी जिले के एक गाँव में हुआ था।  आप भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के पहले लोकप्रिय नेता थे !   आपने सर्वप्रथम पूर्ण स्वराज्य की मांग उठाई थी !   गीता पर लिखी आपकी टीका और गणेश महोत्सव इस देश को आपकी देन हैं !   पूर्ण स्वराज्य के लिए लड़ते हुए  1 अगस्त, सन 1920 ई. में बंबई में तिलक की मृत्यु हो गई।   आपको  श्रद्धांजलि देते हुए महात्मा गाँधी ने उन्हें आधुनिक भारत का निर्माता और नेहरू जी ने भारतीय क्रांति के जनक की उपाधि दी।

लोकमान्य बल गंगाधर तिलक के अनमोल कथन ---

  • एक बहुत प्राचीन सिद्धांत है की ईश्वर  उनकी ही सहायता करता है ,जो अपनी सहायता आप करते हैं ! आलसी व्यक्तियों के लिए  ईश्वर अवतार  नहीं लेता ! वह उद्योगशील व्यक्तियों के लिए ही अवतरित होता है ! इसलिए कार्य करना शुरु कीजिये !

  • मानव प्रकृति ही ऐसी है की हम बिना उत्सवों के नहीं रह सकते ! उत्सव प्रिय होना मानव स्वाभाव है ! हमारे त्यौहार होने ही चाहियें !

  • आप कठिनाइयों ,खतरों और असफलताओं के भय से बचने का प्रयत्न मत कीजिये ! वे तो निश्चित रूप से आपके मार्ग मे आनी ही हैं!

  • कर्त्तव्य  पथ पर गुलाब-जल नहीं छिड़का होता है  और ना ही उसमे गुलाब उगते हैं !

  • आप केवल कर्म करते जाइए ,उसके परिणामों पर ध्यान मत दीजिये !

  • प्रातः काल मे उदित होने के लिए ही सूर्य  संध्या काल मे अन्धकार के गर्त मे चला जाता है !  अन्धकार मे जाए बिना प्रकाश प्राप्त नहीं हो सकता !  गर्म हवा के झोंकों मे जाए बिना ,कष्ट उठाये बिना ,पैरों मे छाले पड़े बिना ,स्वतन्त्रता नहीं मिल सकती !

  • बिना कष्ट के कुछ नहीं मिलता !

  • जनमत जैसी एक  चीज होती है जिससे स्वेच्छाचारी और तानाशाह भय खाते हैं !

  • अपने हितों की रक्षा के लिए यदि हम स्वयं जागरूक नहीं होंगे तो दूसरा कोन होगा ? हमे इस समय सोना नहीं चाहिये ,हमे अपने लक्ष्य की पूर्ति के लिए प्रयत्न करना चाहिये !

  • दुसरे के मुह से पानी नहीं पिया जा सकता ,हमे पानी स्वयं पीना होगा ! वर्तमान व्यवस्था (अंग्रेजी हुकूमत ) हमे दुसरे के मुह से पानी पीने के लिए मजबूर करती है ! हमे अपने कुवें से अपना पानी खीचना और पानी पीना चाहिये !

  • आपको ये नहीं मानना चाहिये की आप जो श्रम करेंगे उससे उत्पन्न फसल को आप ही काटेंगे !   सदेव ऐसा नहीं होता ! हमे अपनी पूर्ण शक्ति  से श्रम करना चाहिये और उसका परिणाम आने वाली पीढ़ी के भोगने के लिए छोड़ देना चाहिये ! याद रखिये ,आप जो आम आज खा रहे हैं  उनके पेड़ आपने नहीं लगाये थे !

  • अगर आप नहीं दोड़ सकते तो ना दोडें,लेकिन जो दोड़ सकते हैं , उनकी टांग क्यों खींचते हैं ?

  • महान उपलब्धियां सरलता से नहीं मिलतीं और सरलता से मिली उपलब्धियां महान नहीं होतीं!

  • आपके लक्ष्य की पूर्ती स्वर्ग से आये किसी जादू से नहीं हो सकेगी !  आपको ही अपना लक्ष्य प्राप्त करना है ! कार्य करने और कढोर श्रम करने के दिन यही हैं !

  • कायर ना बनें ,शक्तिशाली  बनें और विशवास रखें की ईश्वर आपके साथ है !

  • आपका दोष क्षमता की कमी या साधनों की कमी की दृष्टि से नहीं है , वरन दोष इस बात मे है की आपमें संकल्प का अभाव है !  आपने उस संकल्प को अपने मे उत्पन्न नहीं किया है जो आपको पहले ही उत्पन्न कर लेना था ! संकल्प ही सब कुछ है ! आपको संकल्प शक्ति इतना साहस दे सकती है की आपको लक्ष्य पाने से कोई नहीं रोक सकता !

  • जब  लोहा गरम हो  तभी उस पर चोट कीजिये और आपको निश्चय ही सफलता का यश प्राप्त होगा !

  • मराठी मे एक कहावत है -घोडा अड़ा क्यों ? पान सडा क्यों ?  और रोटी जली क्यों ? इन सबका एक ही उत्तर है -पलटा ना था !

  • आपके विचार सही हों ,आपके लक्ष्य ईमानदार हों ,और आपके प्रयास संवेधानिक हों तो मुझे पूर्ण विश्वास है की आपको अपने प्रयत्नों मे सफलता मिलेगी ! 

  • मनुष्य का प्रमुख लक्ष्य भोजन प्राप्त करना ही नहीं है ! एक कौवा भी जीवित रहता है और जूठन पर पलता है ! 
                                                       ---------------------------------------------

5 टिप्‍पणियां:

  1. vo mahapurush jinka kad nishit hi kisi bhi tatkalik neta se kamtar nahi tah purn swraj ka nara dene wale lokmanya ko shat shat naman.lekh ke liye badhai neeraj bhaiya.

    उत्तर देंहटाएं
  2. too good piece of information, I had come to know about your site from my friend sajid, bangalore,i have read atleast 11 posts of yours by now, and let me tell you, your web-page gives the best and the most interesting information. This is just the kind of information that i had been looking for, i'm already your rss reader now and i would regularly watch out for the new post, once again hats off to you! Thanks a lot once again, Regards, Bal Gangadhar Tilak Quotes

    उत्तर देंहटाएं

दोस्त, आपके अमूल्य comment के लिए आपका शुक्रिया ,आपकी राय मेरे लिए मायने रखती है !