may14

शनिवार, 4 जनवरी 2014

How to Make New Year's targets Plan? in hindi




कैसे बनाएं नए साल की  लक्ष्य योजना ?

दोस्तों,

 बधाई ,बहुत बधाई  आपको .....


किस बात की ?
अरे, उस परमात्मा,ईश्वर ,खुदा ने आपको हजार-हजार के 365 कड़क नोट दिए हैं ,नए साल में खर्च करने के लिए ,पता है ना ,इसीलिए बधाई 

लेकिन उसकी एक छोटी सी शर्त है ,कि आप एक दिन में एक नोट ही खर्च करेंगे,काम लेंगे ! और हर दिन के साथ एक नोट आपकी तिजोरी से अपने आप कम होता जाएगा ,काम ले लें तो अच्छा वरना अपने आप lapse हो जाएगा !
अब ये हमारे ऊपर है की हम चाहें तो हजार के इस नोट को invest कर के उसे लाख में बदल लें ,या यूँ ही गायब हो जाने दें !
क्या सोचा है आपने ?
काम लेंगे ना ,ज्यादा से ज्यादा नोट काम लेंगे !
अच्छी बात है ,बधाई...
 
लेकिन दोस्तों ,सिर्फ सोचने मात्र से नोट खर्च नहीं होंगे ,मेहनत करनी पड़ेगी ,काम करना पड़ेगा ,इन्हें खर्च करने और लाभ लेने के लिए !

तो  उठाइये कागज़,कलम और बनाइये plan इन रुपयों (दिनों) को सही तरीके से खर्च करने का !

इस नए साल की शुरुआत थोड़े आत्म-चिंतन के साथ ,ठीक है ना ?
ये आधे-एक घण्टे का workout हमारे पूरे साल की दिशा तय कर देगा !
तो तैयार हैं आप ?
चलिए ,शुरू करते हैं...
 
एक कॉपी-पेन या notebook लीजिये ! घर में या जहाँ भी आप चाहें ,शान्त होकर एक जगह बेठिये ! कोई शोर नहीं ,disturbance नहीं ,no mobile,net etc. nothing
शान्ति से बेठिये ,थोड़ी गहरी सांसें लीजिये ,मन को शांत कीजिये ,relex .... 
दोस्तों ,आपने गए साल (2013 ) के लिए भी कुछ target बनाये ही होंगे ,है ना ?
एक निवेदन इस exercise को आप पूरी ईमानदारी ,निष्ठा और सब्र से कीजिएगा ! आखिर आने वाले साल का पूरा master plan जो बनाने जा रहे हैं आप 

अपनी notebook के पहले page पर लिखिए ---
2013 के मेरे target थे --
1. 
2. 
पूरी ईमानदारी से उन्हें कागज़ पर लिख लीजिये !

पूरे हुए target ---
1. ------------                     बधाई 
2. ------------                     बधाई 
अपने आप को शाबाशी दीजिये ,दिल से 

वो target जो पूरे नहीं हो पाये ---
target                    पूरा न होने का कारण 
1.                                ----------कारण 
2.                                ----------कारण 

वो कारण जिस वजह से वो लक्ष्य पूरे नहीं हो पाये ,कुछ मैं बता देता हूँ (क्योंकि इनमे से कुछ मुझ पर भी लागू हुए हैं  )
आलस , लापरवाही , कल कर लेंगे , अभी तो बहुत समय है , work load , health issue , समय की कमी , भूल गए ……… 

है ना ? पूरी ईमानदारी से अपनी कमियों को, उन कारणो को लिख लीजिये ,कि कहाँ कमी रही हमारे अंदर !

चलिए आगे चलते हैं !

अगला page खोलिए ,लिखिए --

नए साल (2014) के target ----
1. old remaining--वो जो पिछले साल के बकाया रह गए 
2. new targets--जिन्हें इस साल में पाना है

targets एक साल के हिसाब से ही बनाएं, practical,achievable but slightly tough

एक साहब ने new year resolution लिया कि मैं नए साल में शराब नहीं पियूँगा !
अच्छी बात है... 
किसी ने पूछा ,वैसे,  क्या अभी बहुत ज्यादा पीते हैं ?
अरे नहीं ,मैंने तो आज तक शराब चखी भी नहीं है ! इसलिए संकल्प भी पूरा और कोई headache भी नहीं …… 

दोस्तों, ये भुलावा है ,छलावा है अपने आप से 
हम संकल्प वो ही लें जो हम नहीं हैं ,पर होना चाहते हैं ! गलत है तो छोड़ना चाहते हैं !
ऐसे सरल लक्ष्य और संकल्प लेकर हम किस को धोखा देंगे ? अपने आप को ही ना.. 

target तो बन गए ! अब उनको पूरा करने का सही systematic plan  भी कागज़ के अगले page पर बना लीजिये , points में
 
कब कोनसा target achieve करना है इसे भी लिख लीजिये (timing )

अब notebook के next page को 2 हिस्सों में divide कीजिये --
एक side पर लिखिए ----
 
My qualities ( मेरी खूबियाँ ---बहुत होंगी , दिल से ढूंढिएगा   )

दूसरी side पर लिखिए ---

My weaknesses (मेरी कमजोरियां )

पूरी ईमानदारी से अपनी अच्छाइयों और कमियों को लिख लीजिये !

अब अपनी qualities , अपनी खूबियों वाला page पढ़िए , भगवान् को , ईश्वर को धन्यवाद दीजिये ,प्रभु आपने इतनी अच्छाइयाँ इतनी अच्छी qualities मुझे दी हैं ,आपको अनेक धन्यवाद ,दिल से 
अपने कमजोरियों वाले page को भी पढ़िए ! फिर उसके बगल में लिखिए कि मैं इन्हें कैसे दूर कर सकता हूँ ! बाकायदा उसका तरीका लिखिए और हाँ उसकी समय-सीमा भी 
किसी target या काम को समय-सीमा में बांधना ,किसी घोड़े को नकेल डालने जैसा है !

for ex.  
कमी ---
1. देर से उठना 
2. TV ज्यादा देखना 

उपाय no. 1. मैं संकल्प करता हूँ कि 05/01/2014 से मैं सुबह 5 :30  बजे उठूंगा ! इसके लिए रात में 10 बजे तक जरुर सो जाऊँगा !
इसी तरह सारी  कमियां और उनका निराकरण लिख लीजिये !

अब इस notebook के main targets को एक page पर मोटे font में लिख कर mirror या  bedroom में लगा लीजिये !
क्योंकि जो दिखता है वही टिकता है !
कहा भी है --out of sight ,out of mind 

बस ,अपने ईष्ट को हाजिर-नाजिर जान अपना यह plan बनाइये ! प्रार्थना कीजिये कि वो आपके अच्छे काम और लक्ष्य को पूरा करने में आपकी मदद करे !

और फिर बस जुट जाइये ,अपने लक्ष्य पाने…… 
आखिर.... अनंत आकाश आपका इन्तजार कर रहा है !

डॉ नीरज यादव ,बारां 

                 -------------------------------------------------------------------------

2 टिप्‍पणियां:

  1. बेहद ही दमदार पोस्ट की है आप ने सर जी. एक छात्र के लिए तो यह पोस्ट वैसे ही है जैसे चंद्रगुप्त के लिए चाण्क्य.

    उत्तर देंहटाएं

दोस्त, आपके अमूल्य comment के लिए आपका शुक्रिया ,आपकी राय मेरे लिए मायने रखती है !