may14

शनिवार, 21 दिसंबर 2013

story Trust and faith in hindi



श्रद्धा और विश्वास.... 

रात के 2 बजे थाने की  घंटी बजी !
हलो ! कौन ?
यहाँ जन्नत मार्ग निष्ठा पथ पर इंसानियत के खंडहर के पीछे एक लड़का और एक लड़की लहुलुहान हालत में पड़े हैं ,जल्दी आइये ! बताने वाले ने अपना नाम नहीं बताया ! 
मौका मुआयना करने पर पुलिस वालों ने देखा ,एक जवान लड़की ,अधमरी अवस्था में ,लगभग निर्वस्त्र ,लहुलुहान सी ,बेदम पड़ी है ! शायद उसका बलात्कार हुआ है ! वहीँ पास में एक युवा सुदर्शन सा लड़का बेहोश पड़ा है ,जिसकी पीठ और सीने पर खंजर के कई वार हैं ! देखा ,दोनों कि नब्ज रुक-रुक कर चल रही है !
तुरंत उन्हें अस्पताल ले जाया गया 
डॉ मानव के अथक प्रयास से उन दोनों कि जान बच सकी और वे बयान देने की हालत में आये !
लेडी इंस्पेक्टर करुणा ने पूछा ,कैसी हो ? क्या अपनी आपबीती बता सकती हो ?

जरुर इंस्पेक्टर ,  मैडम  मेरा नाम श्रद्धा है और ये मेरा भाई विश्वास है ! कहाँ से शुरू करूँ ,एक समय था जब हर घर में मेरी पहुँच थी ,मैं लोगों के दिलों में ,उनकी आत्मा में रहा करती थी ! मेरा भाई भी मेरे साथ ही लोगों के मन में रहा करता था ! 
लेकिन समय का फेर देखिये ,जिन्होंने हमें पैदा किया ,जिनकी गोद में हम पले-बढे ! कुछ सफेदपोश , ढोंगी ,दुराचारीयों  ने उनके जैसा वेश बना कर मेरा शील-हरण किया ! मैं बहुत रोई ,गिड़गिड़ाई ,पर वो निष्टुर ,पापी बिलकुल नहीं पसीजे ! समाज के सामने अपना आदर्श रूप दिखाते रहे ,और रोज उसकी आड़ में मेरा बलात्कार करते रहे ! उनके देखा-देखी और दूसरे कामी लोलुप लोगों ने भी धर्म,मजहब की आड़ में अपने वीभत्स क्रिया-कलाप शुरू कर दिए ! 

मेरे भाई विश्वास का सहारा लेकर भी उन जालिमों ने मुझे नोच डाला ! मेरे भाई के साथ भी यही हुआ ! इन दुष्टों ने सामने से मुस्कुरा कर ,गले लगा कर उसकी पीठ में धीरे से खंजर भोंक दिया ! और ये सब इतना दबे छुपे हुआ कि भोली-भाली ,मासूम जनता को इन तथाकथित धर्म,मजहब के ठेकेदारों के कुकर्मों का पता नहीं लग पाया ! 

ऐसे लोगों की वजह से ही अच्छी और सच्ची जगहों पर से भी हमारा वजूद ख़तम होता जा रहा है ! एक अच्छे इंसान , फ़रिश्ते को भी लोग शक़ और नफरत की नजर से देखने लगे हैं !

अब जबकी इन सफेदपोशों के दामन के दाग बाहर दिखने लगे ,तो बजाय शर्मिंदा होने के ,इन हवस के भेड़ियों ने मेरा सामुहिक शील हरण कर लिया ! मेरे अस्तित्व को तार तार कर दिया ! मेरा अंतर्नाद सुन जब भाई मुझे बचाने आया तो इन दरिंदों ने उसकी पीठ और सीने को खंजरों से भेद दिया !
शुक्रिया डॉ मानव ,कि हमारा वजूद अभी बच गया ,लेकिन कब तक ? हम सही होकर बाहर निकलेंगे और ये घात लगाए भेड़िये फिर हमें लूट लेंगे ,हमें मार डालेंगे ! इसका कोई समाधान नहीं है क्या ?
क्यों नहीं है ,जरुर है ! डॉ विवेक ने कहा 
तुम्हारा शील बचा रह सकता है अगर ये भोली जनता थोडा सा मेरा भी उपचार ले ले ! डॉ विवेक ने हँस कर कहा 
वो क्या डॉक्टर ?
देखो ! भगवान् ,परमात्मा ने हर इंसान को आँख,कान और दिमाग दिया है ,जो सही गलत ,अच्छे बुरे का अंतर कर सकता है ! तो क्यों नहीं ऐसी जगहों पर इंसान अपने विवेक का इस्तेमाल करता ! क्यों वो अंधश्रद्धा और अन्धविश्वास के  मकड़जाल में उलझ जाता है ! पडोसी के जलते  घर को देख कर भी आँखें मूंदे बैठे रहेंगे तो अगला जलता घर हमारा ही होगा !
और अगर कोई मेमना आँख बंद कर अपने आप को भूखे भेड़िये के सामने ले जाएगा ,तो वो तो उसको खाएगा ही !
ये तथाकथित धर्म मजहब के ठेकेदार इन मासूमों की इस कमजोरी का ही फायदा उठा कर अपना उल्लू सीधा करते हैं ! जरुरी नहीं हर चमकती चीज सोना ही हो ! काश कि ये बात इंसान समझ पाये !
चलो , जल्दी से ठीक हो जाओ दोनों ,क्योंकि तुम्ही से तो इस दुनिया का वजूद है !

डॉ नीरज यादव ,बारां 

                                    -------------------------------------------------------------------------

1 टिप्पणी:

  1. शिक्षा पद्र कहानी. ऐसे भेड़ियों से निपटने के लिए अगर पहले त्यारी की जाए तो भी कोई बुरी बात न होगी. कहते है हमारा मजहब अमन का है मगर करते क्या है यह पुरी दुनिया जानती हैं. ऐसे लोगो को पहले बात चीत से समझाओं अगर फिर भी ना माने तो इन्हे बता दो कि हम उन लोगो के वंशज है जिन्होंने महाभारत की थी.

    जय श्री राम.

    उत्तर देंहटाएं

दोस्त, आपके अमूल्य comment के लिए आपका शुक्रिया ,आपकी राय मेरे लिए मायने रखती है !