may14

रविवार, 5 मई 2013

समय की कीमत






                                   समय की कीमत 


एक बार एक इंसान की सेवा से प्रसन्न होकर एक साधू ने उसे एक ATM machine दी  ,कहा -बेटा ,तेरी निस्स्वार्थ सेवा से प्रसन्न होकर मैं तुझे एक उपहार देता हूँ ! यह कोई साधारण ATM machine नहीं है ! इसमें रोज सुबह तुझे हजार हजार के 24 नोट (rupees ) रखे मिलेंगे !
आदमी बड़ा खुश  हुआ , बोला -महाराज रोजाना ? हर दिन 24 नोट ?
साधू ने कहा ,हाँ भाई ,रोज 1000 के 24 कड़क नोट , लेकिन एक condition है ?
वो क्या महाराज ?
वो यह की ये रुपये तुम्हें रोजाना के रोजाना ही खर्च करने होंगे ! एक दिन भर में 24 में से जितने रुपये तुम खर्च कर पाओगे उतने ही तुम्हारे होंगे ,बाकी बचे हुए सारे रुपये अपने आप ही lapse हो जाएंगे ,गायब हो जाएंगे ! फिर अगले दिन 24 नए नोट हाजिर ..

आदमी बोला ,-इसमें कोनसी  बड़ी बात है ,आप 24 की कह रहे हैं ,24 की जगह 1000 के 100 नोट भी होते खर्च करने के लिए, तो मुझे तो वो भी कम पड़ते महाराज 
साधू मुस्कुराये 
अगले दिन सुबह जैसे ही उस इंसान की आँख  खुली ,वो सीधा ATM machine के पास गया ,देखा 1000 के 24 कड़क नोट उसकी आँखों के सामने थे !
वो बड़ा खुश हुआ ,दिन भर उन रुपयों को खर्च करता रहा ! रात होने पर देखा अभी भी 1 -2 नोट बच गए थे ,बड़ा दुखी हुआ की अब ये रुपये ऐसे ही व्यर्थ गायब हो जाएंगे ! चलो कल में पूरे 24 नोट ही खर्च करूँगा !
कुछ दिनों तक बड़ी उमंग और उत्साह से वो रुपये खर्च करता रहा ,लेकिन कुछ समय बाद वो 24 में से मुश्किल से 4-5 नोट ही खर्च कर पाता था और बचे हुए सारे नोट lapse हो जाते थे ! वो अपनी आलस,लापरवाही ,टालमटोल की आदत की वजह से  चाह कर भी उन्हें खर्च नहीं कर पाता था !

आइये दोस्तों जरा हिसाब लगायें की उस आदमी को अपने पूरे जीवन में कितने रुपये मिले और उनमे से कितने रुपये वो खर्च कर पाया !

मान लेते हैं उस इंसान की औसत उम्र 80 साल है ,तो .....
एक दिन में -- 24,000 रुपये 
7 दिन में   --   168,000
एक महीने में --लगभग 720,000
एक साल में ---लगभग  8,760,000 ( सत्तासी लाख रुपये )
लगभग पूरे जीवन में  --लगभग 700,800,000 (लगभग सत्तर करोड़ रुपये )

और उसने अपने काम लिए (खर्च किये ) लगभग 5000 रुपये प्रतिदिन के हिसाब से ( कुछ लोग तो इतना भी खर्च नहीं कर पाते हैं रोज )--
5000 x 365(एक साल में ) = 1,825,000
लगभग पूरे जीवन काल में = 146,000,000 (लगभग 15 करोड़ रुपये )

हम ये मान लेते है की उसे पूरे जीवन काल में ATM machine से लगभग 70 करोड़ रुपये मिले ! और उनमे से उसने खर्च किये 15 करोड़ ..चलिए 15 नहीं 20,30 करोड़ मान लेते हैं ,ठीक है 
फिर भी लगभग 40 करोड़ रुपये तो lapse हो ही गए ! अब ऐसे आदमी को आप क्या कहिएगा ?
आप सोच रहे होंगे  कैसा आदमी है ? जो इतनी सहजता से मिले करोड़ों रुपयों को भी नहीं सम्हाल पाया !

दोस्तों, वो आदमी और कोई नहीं  आप और मैं (हम ) ही हैं !

जरा सोचिये हम अपने रोज के 24 घंटे में से या कहें 24000 रुपयों में से  कितने घंटे या रुपये cash कर पाते हैं ,वसूल पाते हैं ! कितने मिनटों का हम सार्थक उपयोग कर पाते हैं ! और  कितने घंटे (रुपये ) ऐसे ही व्यर्थ जाया हो जाते हैं ! सोचिएगा .....

वैसे दोस्तों ,एक घंटे की कीमत हजार के एक नोट से भी कहीं ज्यादा है ! क्योंकि दुनिया की सारी  दौलत देकर भी हम एक घंटा या मिनट तो क्या पिछले क्षण को भी वापस वर्तमान में नहीं ला सकते ,है ना ?

हाथ की मुट्ठी में रेत  की मानिंद समय क्षरित होता जा रहा है ,और क्षरित होते जा रहे है हम भी ,काल के प्रवाह में ...

आइये हम पूरे 24,000 नहीं तो जितने ज्यादा रुपये ( घंटे ) एक दिन में cash कर सकते हैं ,करें ! क्योंकि समय अमूल्य है और हम इसे ऐसे ही जाया नहीं होने दे सकते ,है ना ?

डॉ नीरज 


                                           --------------------------------------------------------------------------------------------







4 टिप्‍पणियां:

  1. Very good article on time ! इस लेख के लिए आप को 100 में से 100। मैं इसे जरूर साझा करूगा / जो पल हम गवा देते हैं वह हमारी बदकिस्मती के खजाने में जमा हो जाती हैं ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. नीरज जी आपने जिस रोचक अंदाज से समय की महत्ता को समझाने का प्रयास किया है वह प्रशंसनीय है। वाकय समय रेत की तरह हाथ से निकलता जा रहे।

    उत्तर देंहटाएं
  3. मॉडर्न समय की कहानी, समय के महत्त्व को समझाने के लिए उपयोगी.

    उत्तर देंहटाएं
  4. Article is very good but sorry i think that time is chance to do a work.

    उत्तर देंहटाएं

दोस्त, आपके अमूल्य comment के लिए आपका शुक्रिया ,आपकी राय मेरे लिए मायने रखती है !